Featured Posts

गुरुक्षेत्रम् मन्त्राचे श्रद्धावानाच्या जीवनातील महत्त्व - भाग १२

सद्गुरू श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या ०८ एप्रिल २०१० च्या मराठी प्रवचनात ‘गुरुक्षेत्रम् मन्त्राचे श्रद्धावानाच्या जीवनातील महत्त्व’ याबाबत सांगितले.    जे जे काही करायचं, ते फक्त तीन पदक्षेपात करतो, तीन पावलांमध्ये करतो, तीन शब्दांमध्ये करतो, आलं लक्षामध्ये! म्हणून तो ‘‘त्रिविक्रम’ आहे आणि करतो म्हणजे यशस्वीपणे करतो, बेस्ट करतो. त्याच्या जागी दुसरं कोणीच असू शकत नाही म्हणून तो ‘त्रिविक्रम’ आहे आणि अशा ह्या त्रिविक्रमाच्या निलयामध्ये हा मंत्र आम्हाला नेतो आणि मग आम्हाला सांगितलं

भारत को मात देने के लिए और हिन्दुत्व को ख़त्म करने के लिए चीन किस प्रकार नेपाल को कब्ज़े में करने की कोशिश कर रहा है

हाल ही में, तिब्बतस्थित कैलाश मानसरोवर तक पहुँचने के लिए भारत ने अपने उत्तराखंड राज्य में एक नये रास्ते का उद्घाटन किया। भारत से कैलाश मानसरोवर की तीर्थयात्रा के लिए जानेवालें तीर्थयात्रियों को अब तक ५ दिन पैदल यात्रा करनी पड़ती थी; इस नये रास्ते के कारण अब तीर्थयात्री वहाँ तक गाड़ी से केवल २ ही दिन में पहुँच सकेंगे। लेकिन नेपाल ने इस रास्ते पर ऐतराज़ जताया है। जवाब

How China is trying to takeover Nepal to checkmate India and finish off Hinduism

Recently, India inaugurated a new road in its state of Uttrakhand to reach Kailash Mansarovar in Tibet. The route will help pilgrims from India as it reduces a 5-day trek to a 2-day vehicle ride. However, Nepal has objected to the road. In response, India has said the new route is entirely within its territory. Here, it needs to be noted that apart from being pilgrim-friendly, the road holds high

china-communist

In 2013, the European Union and China began negotiations for a bilateral investment pact. Numerous rounds of talks have been held since then yet because of some sane voices both the sides have not signed the deal for failing to reach a common ground concerning reciprocal market access and a level playing field. As usual, China is trying to go overboard and is trying to pressure the EU for a

अनिरुद्धजी की ‘ईशा माँ’

॥ हरि ॐ ॥ कुन्दनिका कापडिया अर्थात् अनिरुद्धजी की ‘ईशा माँ’ का देह आज मूलतत्त्व में विलीन हो गया। आज दिनांक ३०/०४/२०२० को भोर के दो बजे उन्होंने देह त्याग दिया और सुबह ग्यारह बजकर चालीस मिनट पर उनका अन्तिम संस्कार नंदिग्राम में हुआ। अनिरुद्धजी के दुख में हम सभी श्रद्धावान सम्मिलित हैं। । हरि ॐ । श्रीराम । अंबज्ञ । । नाथसंविध्‌ ।      समीरसिंह दत्तोपाध्ये गुरुवार, दि.

'The Third World War' book and present situation

Hari Om,  Many countries across the world are holding China responsible for today’s dire consequences that the world is facing.  News Links – http://www.aniruddhafriend-samirsinh.com/third-world-war-english/ Here, our memories go way back to March 2006, to the article series authored by Dr. Aniruddha Dhairyadhar Joshi titled, ‘Third World War’ that was published in the Dainik Pratyaksha. Later, in December 2006, on the day of Datta Jayanti, the article collection was published in

श्रद्धावानों के लिये जीवन में सुंदरकांड का महत्व

हरि ॐ, आज दुनियाभर में जो परिस्थिति है, उस परिस्थिति में भी बापुजी के सभी श्रद्धावान मित्र उपासना के माध्यम से बापुजी के साथ दृढ़तापूर्वक जुड़ गये हैं और इस सांघिक उपासना के साथ ही, श्रद्धावान अपनीं व्यक्तिगत उपासनाएँ और खुद की प्रगति के लिए आवश्यक होनेवाले विभिन्न Online Courses इनके माध्यम से, बापुजी के बतायेनुसार समय का यथोचित इस्तेमाल करके इस संकट के दौर को अवसर में परिवर्तित कर

अनिरुद्ध प्रेमसागरा मोबाइल अ‍ॅपसंबंधी सूचना

हरि ॐ, सध्या सुरू असलेल्या लॉकडाऊनच्या काळातही बापूंनी आपल्या सर्व श्रध्दावानांसाठी सांघिक उपासनेचा सुंदर मार्ग इंटरनेटच्या माध्यमांतून खुला करून दिला आहे. अनेक श्रध्दावान व्हॉट्‌सॲप द्वारे दररोज या विविध उपासनांबाबत मनापासून आपल्या प्रतिक्रिया व्यक्त करीत आहेत. परंतु, सध्याची परिस्थिती लक्षात घेता अधिकृत सूचनांनुसार व्हॉट्‌सॲपच्या सेटिंगमध्ये बदल करण्यात आले आहेत. मात्र त्याचवेळेस ’अनिरुध्द प्रेमसागरा – श्रध्दावान नेटवर्क’ – हे सर्व श्रध्दावानांसाठी असणारे सोशल नेटवर्क, आपल्यासाठी सहज मार्ग बनला आहे. यातही श्रध्दावानांना अधिक

संस्था ने आय.टी. क्षेत्र में की हुई प्रगति के पीछे अनिरुध्द बापुजी के अथक परिश्रम, अभ्यास, दूरंदेशी तथा मार्गदर्शन

हरि ॐ, आज दुनियाभर से अनगिनत श्रद्धावान “अनिरुद्ध टी.व्ही.” तथा मेरे फेसबुक पेज के माध्यम से हररोज़ प्रक्षेपित होनेवालीं विभिन्न उपासनाओं का आधार महसूस कर रहे हैं। उसी प्रकार, इस मुश्किल दौर में कई श्रद्धावान “अनिरुद्ध रेडिओ” का भी आधार ले रहे हैं और उसके लिए आय.टी. टीम की मन:पूर्वक प्रशंसा कर रहे हैं। लेकिन इस उपलक्ष्य में एक महत्त्वपूर्ण बात पर मैं सभी श्रद्धावानों का ग़ौर फ़रमाना चाहता हूँ।

सुंदरकाण्ड पाठ और चैत्र पूर्णिमा (हनुमान पूर्णिमा) संबंधी सूचना

  हरि ॐ, सुंदरकाण्ड पाठ का होनेवाला प्रक्षेपण: सभी श्रद्धावान जानते ही हैं कि इन दिनों शुरू चैत्र नवरात्रि (शुभंकरा नवरात्रि) में, हररोज़ शाम को अनिरुद्ध टी.व्ही. तथा मेरे फेसबुक पेज के माध्यम से, नित्य उपासना के बाद “सुंदरकाण्ड पाठ” का प्रक्षेपण किया जाता है। फिलहाल कोरोना वायरस, “कोविद – १९” ने पूरी दुनिया में ही निर्माण की हुई तनाव की परिस्थिति में, इस सुंदरकाण्ड के पाठ के कारण बहुत