Announcements

Aniruddha Bhaktibhav Chaitanya

  हरि ॐ, २६ मई २०१३ को हम सबने एक अद्‍भुत एवं सुखद प्रेमयात्रा को अनुभव किया, वह प्रेमयात्रा थी ’न्हाऊ तुझिया प्रेमे’। सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्ध के प्रेम में, इस भक्तिभाव चैतन्य में नहाना क्या होता है, इसका प्रत्यक्ष एवं परिपूर्ण अनुभव इस दिन श्रद्धावानों ने किया। आज इस प्रेमयात्रा के ६ वर्ष पूरे हो रहे हैं और हम सब श्रद्धावान ३१ दिसंबर २०१९ को हो रहे ’अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य’ इस

charakha shibir

हरि ॐ, दिनांक १३ मे ते १९ मे २०१९ या काळात श्रीअनिरुद्ध गुरुक्षेत्रम् येथे दरवर्षीप्रमाणे श्रीहनुमान चलिसा पठण संपन्न झाले. या पठण काळात दररोज श्रीहनुमान चलिसेची १२३-१२५ आवर्तने झाली. याच काळात साईनिवास येथे चरखा शिबीरही संपन्न झाले. ’चरखा वस्त्र’ योजने अंतर्गत तयार झालेल्या सुतापासून दरवर्षी ’कोल्हापूर वैद्यकीय व आरोग्य शिबीरात’ हजारो मुलांना शाळेचे गणवेश विनामुल्य पुरविले जातात. त्याचप्रमाणे विरार व पाली येथे होणाऱ्या वैद्यकिय शिबीरामध्येही गणवेश वाटप करण्यात येते. यासाठीच

Sudeep

हरि ॐ, सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्धजी के कृपा-आशीर्वाद से और उन्हीं के मार्गदर्शन के अनुसार श्रद्धावान भक्तिमार्ग पर अपना सर्वांगीण विकास कराते रहते हैं। सद्गुरु श्री अनिरुद्धलिखित ‘श्रीमद्पुरुषार्थ ग्रंथराज’ तृतीय खण्ड ‘आनन्दसाधना’ के ‘आचमन-१२२’ में, परमात्मा को पसन्द होनेवालीं नौं बूँदों के बारे में जो वर्णन किया गया है, उसके ८ वें मुद्दे में कहा गया है – ‘८) श्रीमद्पुरुषार्थ ग्रंथराज के समीप प्रज्वलित किये जानेवाले दीपक के तेल, घी तथा मोम

trivikram math ratnagiri

हरि ॐ, सभी श्रद्धावानों को यह सूचित करने में बहुत खुशी हो रही है कि माता जगदंबा और सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्ध के कृपाशीर्वाद से, आज दि. १६ मई २०१९ को अतुलितबलधाम-रत्नागिरी में ‘त्रिविक्रम मठ’ की स्थापना की गयी। इस त्रिविक्रम मठ के लिए शंख, ताम्हन, पीतांबर, तीर्थपात्र और तस्वीरें गुरुवार दि. ९ मई २०१९ को श्रीअनिरुद्ध गुरुक्षेत्रम्‌ से दी गयी थीं। अत्यंत भक्तिमय, प्रसन्न एवं हर्षोल्लासपूर्ण वातावरण में, संस्था के महाधर्मवर्मन

Aadhunik Itihasache Manabindu

हरि ॐ, ‘दैनिक प्रत्यक्ष’मध्ये ‘चालता बोलता इतिहास’ या सदराखाली, विविध क्षेत्रांतील निवडक मान्यवरांच्या मुलाखती घेऊन त्या त्या क्षेत्राचा इतिहास व त्या मान्यवरांचा त्या क्षेत्रातील प्रवास अतिशय चित्तवेधकपणे उलगडून दाखवण्यात आला होता. वरील सदरातील लेख एकसंग्रह करून ‘आधुनिक इतिहासाचे मानबिंदू’ या शीर्षकाखाली पुस्तकरूपाने प्रकाशित करण्यात येत आहेत. ही पुस्तके फक्त ‘E-book’ (ई-पुस्तक) या प्रकारात ‘किंडल’वर उपलब्ध करून देण्यात आली आहेत. भाग १ – https://www.amazon.in/dp/B07RM5T6QB भाग २ – https://www.amazon.in/dp/B07RHJVKSL या सदरात आलेले

Details of the Mega Blood Donation Camp 2019

Hari Om, Today a ‘Mega Blood Donation Camp’ was held by the ‘Dilasa Medical Trust and Rehabilitation Centre’ jointly with ‘Shree Aniruddha Upasana Foundation’ and the ‘Aniruddha’s Academy of Disaster Management’. This was the 21st year of the Mega Camp. The activity of organizing the blood donation camps, which started under the guidance of Dr. Aniruddha Dhairyadhar Joshi (Sadguru Shree Aniruddha Bapu) in the year 1999, is held across the

महारक्तदान शिविर २०१९ की जानकारी

हरि ॐ, दिलासा मेडिकल ट्रस्ट अ‍ँड रिहॅबिलीटेशन सेंटर द्वारा आयोजित और श्री अनिरुद्ध उपासना फाउंडेशन एवं अनिरुद्धाज्‌ अ‍ॅकॅडमी ऑफ डिझास्टर मॅनेजमेंट के संयुक्त तत्त्वावधान में आज संपन्न हुए महारक्तदान शिविर का यह २१ वाँ वर्ष था। सन १९९९ में डॉ. अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी (सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्ध बापू) के मार्गदर्शन में शुरू हुए इन रक्तदान शिविरों का महाराष्ट्र भर में आयोजन किया जाता है। आज मुंबई तथा अन्य ८ ज़िलों में ३२

चैत्र पूर्णिमा (हनुमानपूर्णिमा) के पावन अवसर पर श्रीगोविद्यापीठम में श्रीदत्तात्रेयजी की मूर्ति की स्थापना

हरि ॐ. आज दिनांक १९ एप्रिल २०१९ को चैत्र पूर्णिमा (हनुमानपूर्णिमा) के पावन अवसर पर परमपूज्य सद्गुरु अनिरुद्ध बापु ने महाधर्मवर्मन श्री. योगींद्रसिंह जोशी और महाधर्मवर्मन सौ. विशाखावीरा जोशी के हाथों श्रीगोविद्यापीठम में श्रीदत्तात्रेयजी की मूर्ति की स्थापना करवा ली। सभी श्रद्धावानों की जानकारी के लिए फोटो जोड़ रहा हूँ। —————————————————————————— हरि ॐ. आज दिनांक १९ एप्रिल २०१९ रोजी चैत्र पौर्णिमेच्या (हनुमानपौर्णिमेच्या) पवित्र दिनी परमपूज्य सद्गुरु अनिरुद्ध बापूंनी महाधर्मवर्मन श्री.

Hanuman Pournima Atulit Baldham

हरि ॐ. हर साल चैत्र शुध्द पूर्णिमा के दिन, श्री अतुलितबलधाम, रत्नागिरी में श्रीहनुमान पूर्णिमा उत्सव मनाया जाता है। विशेष बात यह है कि इस पूरे दिन चलनेवाले कार्यक्रम में सुबह ११.३० से लेकर रात ८.३० तक श्रीपंचमुखहनुमानजी की मूर्ति पर “पंचकुंभाभिषेक” किया जाता है। इस साल हनुमान पूर्णिमा दिनांक १९ अप्रैल २०१९ के दिन मनायी जानेवाली है। श्रद्धावानों की इच्छा होती है कि इस उत्सव में उपस्थित रहकर “पंचकुंभाभिषेक”

Mega Blood Donation Camp 2019

हरि ॐ, दरवर्षीप्रमाणे ह्या वर्षीदेखील आपल्या संस्थेने रविवार दि. २१ एप्रिल २०१९ रोजी सकाळी ९.०० ते सायंकाळी ५.०० वाजेपर्यंत महारक्तदान शिबीर (Mega Blood Donation Camp) आयोजित केलेले आहे. सद्‌गुरू श्रीअनिरुद्धांच्या मार्गदर्शनानुसार गेली २१ वर्षे आपली संस्था रक्तदान शिबीर (ब्लड डोनेशन कॅम्प) नियमितपणे आयोजित करत आहे व त्यामुळे अनेक गरजू रुग्णांना ह्या रक्तदान शिबीरांचा फायदा होतो आहे. आतापर्यंत म्हणजे सन १९९९ ते २०१८ पर्यंत श्रद्धावानांनी मुंबई व महाराष्ट्रात मिळून आयोजित केल्या

भक्तिभाव चैतन्यापर आधारित नये वेबसाईट का प्रकाशन

अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य वेबसाईट तथा अनिरुद्ध प्रेमसागरा – श्रद्धावान नेटवर्क हरि ॐ, सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्ध ने भक्तिभाव चैतन्य से श्रद्धावानों को दैनिक प्रत्यक्ष के अग्रलेखों द्वारा तथा अपने पितृवचनों द्वारा परिचित कराया ही है। श्रद्धावान भी स्वयंभगवान श्रीत्रिविक्रम के सार्वभौम मंत्रगजर के साथ ही इस भक्तिभाव चैतन्य का आनंद ले रहे हैं। सद्गुरु श्रीअनिरुद्ध से प्रेम से निरंतर जुडे (Connected) रहने की और उनके निरंतर संपर्क में (Communication) रहने की इच्छा

भक्तिभाव चैतन्यावर आधारित नवीन वेबसाईटचे प्रकाशन

अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य वेबसाईट व अनिरुद्ध प्रेमसागरा – श्रद्धावान नेटवर्क हरि ॐ, सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्धांनी भक्तिभाव चैतन्याची ओळख श्रद्धावानांना दैनिक प्रत्यक्षमधील अग्रलेखांमधून व पितृवचनांमधून करून दिलीच आहे. श्रद्धावानही स्वयंभगवान श्रीत्रिविक्रमाचा सार्वभौम मंत्रगजराबरोबरच भक्तिभाव चैतन्याचा आनंद घेत आहेत. सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांशी प्रेमाने सतत जोडलेले (Connected) रहावे आणि त्यांच्या सतत संपर्कात (Communication) रहावे ही प्रत्येक श्रद्धावानाची इच्छा असते. त्याचबरोबर सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांवर प्रेम करणार्‍या आपल्या श्रद्धावान मित्रांशीसुद्धा जुळलेले राहून भक्तिभाव चैतन्यातील परस्परांचे अनुभव जाणून घेण्याची

Launch of New website on Devotion Sentience

Aniruddha Devotion Sentience Website & Aniruddha Premsagara – Shraddhavan Network Sadguru Shree Aniruddha has already introduced the ‘Devotion Sentience’ (Bhaktibhav Chaitanya) to all the Shraddhavans through his editorials in the ‘Dainik Pratyaksha’ and also his discourses. The Shraddhavans too on their part are enjoying in the Devotion Sentience and chanting the sovereign Mantragajar of the Trivikram. Every Shraddhavan wishes always to stay connected and in communication with Sadguru Shree Aniruddha.

‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – अप्रैल २०१९

  हरि ॐ, इन्सान के जीवन में, ख़ासकर श्रद्धावान के जीवन में ‘भक्तिभाव चैतन्य’ की क्या अहमियत है, इसके बारे में सद्गुरु बापु हमें बता ही रहे हैं। इस भक्तिभाव चैतन्य में श्रद्धावानों को अधिक से अधिक भिगोने के लिए ‘स्वयंभगवान त्रिविक्रम मन्त्रगजर’, ‘त्रिविक्रम भजन’ जैसे साधनों के साथ साथ, हाल ही में ‘पिपासा’ अभंगमालिका के ‘पिपासा-३’ और ‘पिपासा-४’ ये अल्बम्स् भी लाँच हुए। ‘पिपासा’ अभंगसंग्रहमलिका तो हर एक श्रद्धावान

Telegram logo

Hari Om, I welcome all the Shraddhavans to our Telegram channel !! At the time of posting this message, more than 1700 Shraddhavans have joined it already as Members. It is necessary that the Telegram channel link reaches the maximum number of the Shraddhavans as it will make it possible for us to deliver important notices and official messages to them and that too in a ‘clean, clear-cut and precise’