Samirsinh Dattopadhye

अपनी कुशलताओं को खोजो ( Discover Your Skills ) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

अपनी कुशलताओं को खोजो ( Discover Your Skills ) मानव को चाहिए कि वह पहले स्वयं की खोज करे। भगवान के द्वारा मानव को दिये गये अच्छे गुणों की खोज मानव को करनी चाहिए। स्वयं में रहने वालीं सकारात्मक बातों को, क्षमताओं को खोजकर भक्ति करके बढाना चाहिए इस बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने ०९ अक्टूबर २०१४ के हिंदी प्रवचन में बताया, जो आप इस

Father of Many Inventions

  It is well known that a true great man always has an open mind, open eyes and is ears to others. Dr. Nikola Tesla too had a very distinctive quality of always seeing all the things without any fixed assumptions in his mind. For Dr. Tesla, a phenomenon or even a discovery of his own had multiple aspects and viewpoints. This always led him towards a spectrum of uses

कम्फर्ट झोनमधून बाहेर पडा (Step Out Of Comfort Zone) - Aniruddha Bapu Marathi Discourse 25 Sep 2014

कम्फर्ट झोनमधून बाहेर पडा (Step Out Of Comfort Zone) जी गोष्ट माणसाला सहजतेकडून असहजतेकडे, सुखद सहजतेकडून असहजतेकडे घेऊन जाते, ती गोष्ट भय उत्पन्न करते. माणसाला जर या भयाचा नाश करायचा असेल, तर त्याला आराम-स्थिती सोडून पुरुषार्थ करावा लागतो. आराम-स्थितीच्या क्षेत्राबाहेर म्हणजेच कम्फर्ट झोनबाहेर पडून पुरुषार्थ करण्याबद्दल परम पूज्य सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या २५ सप्टॆंबर २०१४ रोजीच्या प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥

विचार करताना सावध रहा  (Be Cautious While Thinking)  - Aniruddha Bapu Marathi Discourse 25 Sep 2014

विचार करताना सावध रहा (Be Cautious While Thinking) तुलनेतून भय उत्पन्न होते आणि तुलना ही चुकीच्या पद्धतीने केल्या गेलेल्या विचारांमधून उत्पन्न होते. म्हणूनच विचार करताना विवेकाची, मर्यादेची आवश्यकता असते. चुकीचे विचार मानवाच्या अन्तर्बाह्य परिस्थितीत चुकीचे बदल घडवतात. विचार करताना बाळगण्याचा सावधपणा याबद्दल परम पूज्य सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या २५ सप्टॆंबर २०१४ रोजीच्या प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

वैश्विक वास्तव (The Universal Truth)

वैश्विक वास्तव (The Universal Truth) फोरमवर पोस्ट लिहिण्यासाठी येथे क्लिक करावे –  http://www.aniruddhafriend-samirsinh.com/forums/topic/प्रारंभ–2/ `सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांच्या (Shree Aniruddha) ‘तुलसीपत्र’ ह्या अग्रलेखमालिकेत आतापर्यंत बापूंनी (Bapu) अनेक विषयांचे विवेचन केलेले आहे. तुलसीपत्र-९९७ पासून एक वेगळ्याच आणि अद्भुत वाटाव्या अशा विषयाची सुरुवात झाली आहे. तुलसीपत्र-९९६ मध्ये मूषक हा श्रीगणपतीचे वाहन म्हणून अनसूयामातेच्या आश्रमात सिद्ध होतो आणि देवीसिंह असणाऱ्या परमशिव, चण्डिकाकुल वाहने आणि नारदांसह कैलास शिखरावर जातो. त्रिपुरासुराशी होणाऱ्या युद्धाची तयारी म्हणून आदिमाता (Aadimata) महालक्ष्मी

स्वार्थ (Swaarth)

शोकविनाशक हनुमानजी | ShokVinashak Hanumanji हनुमानजी जिस तरह सीताशोकविनाशक हैं, उसी तरह रामशोकविनाशक एवं भरतशोकविनाशक भी हैं। मानव को यह सोचना चाहिए कि जो सीता और श्रीराम के शोक हो दूर कर सकते हैं, वे हनुमानजी क्या मेरे शोक को दूर नहीं कर सकते? अवश्य कर सकते हैं। हनुमानजी के शोकविनाशक सामर्थ्य के बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू  ने अपने १८ सितंबर २०१४ के हिंदी प्रवचन में बताया,

स्वार्थ (Swaarth)

मधु-कैटभ-संहार   स्तुति और निन्दा के कारण मानव अपने अंदर ‘झूठे मैं’ को पनपने देता है। स्तुति-निन्दा को मन पर हावी होने देने के कारण मधु-कैटभ इन राक्षसों का जन्म होता है। आदिमाता महाकाली का अवतार मधु और कैटभ इन दो असुरों का वध करने हेतु हुआ था। मानव को इन राक्षसों से बचने के लिए क्या करना चाहिए, इसके बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू  ने अपने

भयावर मात कशी करावी (How to Overcome Fear) - Aniruddha Bapu Marathi Discourse 25 Sep 2014

भयावर मात कशी करावी आहार, निद्रा, भय आणि मैथुन सर्व जिवांठायी असतात. पण ज्याची भीती वाटते त्यावर मात करणे ही निर्भयता आहे. सद्‍गुरुतत्त्वाची अभयमुद्रा भयाचा नाश करणारी आहे. भीतीचा नाश करून मानवाने नरजन्माची इतिकर्तव्यता साधावी, याबद्दल परम पूज्य सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या २५ सप्टॆंबर २०१४    रोजीच्या मराठी प्रवचनात श्रीहरिगुरुग्राम येथे सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता.  ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

स्वार्थ (Swaarth)

स्वयं को कोसते रहने की प्रवृत्ति और झूठा मैं| मनुष्य के हाथों जो गलती हुई है, उसका एहसास रखकर, उसे भगवान के पास उसे कबूल कर, उसे सुधारने का प्रयास भक्तिशील बनकर मानव को अवश्य करना चाहिए। उस गलती के लिए स्वयं को बार बार कोसते नहीं रहना चाहिए। मनुष्य के इस तरह स्वयं को बार बार दोषी ठहराते रहने की प्रवृत्ति से ‘झूठे मैं’ को बल मिलता है, इस

स्वार्थ (Swaarth)

घातक झूठा अहं  मानव के मन में विचारों की शृंखला चलती रहती है। मानव के अवास्तविक विचारों के कारण उसके मन में ‘झूठा अहं’ बढता रहता है। प्रशंसा और निन्दा से भी यह झूठा अहं बढता है। यह झूठा अहं ही मानव के जीवन में पीडा और भय उत्पन्न करता है। इस झूठे अहं की घातकता के बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने १८ सितंबर २०१४