म्यानमार में सेना का विद्रोह और बदलते हालात

म्यांमार में विद्रोह करनेवाली सेना पर अमरीका के प्रतिबंध

वॉशिंग्टन – म्यांमार की सरकार का तख्तापलट करके विद्रोह करनेवाली सेना के विरोध में अमरीका ने प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया हैं। इसके अनुसार म्यांमार ने अमरीका में रखें करीबन १ अरब डॉलर्स की राशि का इस्तेमाल करना इस लष्करी हुकूमत के लिए संभव नही होगा। साथ ही इस विद्रोह के पीछे होनेवाले म्यांमार के सेना अधिकारियों पर एवं उनके परिवार के सदस्यों पर यह प्रतिबंध लगाए गए हैं। 

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-sanctions-rebel-forces-myanmar/

सरकार का तख्तापलट करनेवाली सेना के खिलाफ म्यांमार में तीव्र प्रदर्शन – प्रदर्शनकारियों पर सख्त कार्रवाई करने की सेना की धमकी

नेप्यितौ – म्यांमार में सेना की हुकूमत के खिलाफ शुरू हुआ प्रदर्शन प्रतिदिन तीव्र और व्यापक होने की बात सामने आ रही है। यह प्रदर्शन कुचलने के लिए सेना और सुरक्षा यंत्रणाओं ने भी तैयारी शुरू की है और कानून का उल्लंघन करनेवाले प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का इशारा दिया गया है। सोमवार के दिन म्यांमार की राजधानी नेपित्यौ समेत देश के प्रमुख शहरों में हज़ारों नागरिक सड़कों पर उतरने का चित्र दिखाई दिया। 

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/strong-protest-in-myanmar-against-army-overthrowing-government/

म्यानमार की बगावत के कारण चीन का इस क्षेत्र में प्रभाव बढ़ेगा – जापान के रक्षा मंत्री की चेतावनी

टोकिओ/बीजिंग/वॉशिंग्टन – ‘म्यानमार में हुई लष्करी बगावत के विरोध में यदि आन्तर्राष्ट्रीय समुदाय ने समय पर ही प्रतिक्रियाएँ नहीं दीं, तो यह लोकतंत्रवादी देश चीन की श्रेणी में जा बैठेगा। इससे आग्नेय एशिया में चीन का प्रभाव बढ़ेगा’, ऐसी चेतावनी जापान के रक्षा मंत्री यासूहिदे नाकायामा ने दी। साथ ही, म्यानमार का लष्कर ‘आँग सॅन स्यू की’ तथा अन्य लोकतंत्रवादी नेताओं को रिहा करें और देश में पुनः लोकतांत्रिक सरकार स्थापित करें, ऐसी मांग जापान के रक्षा मंत्री ने की। 

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/myanmar-rebellion-will-increase-china-influence-in-region/

म्यांमार में लष्करी विद्रोह के बाद आपातकाल का ऐलान – जनतांत्रिक नेता स्यू की समेत राष्ट्राध्यक्ष और सांसदों की हुई गिरफ्तारी

नेपित्यौ – म्यांमार में सेना ने फिर से बगावत करके सरकार का नियंत्रण अपने हाथों में लिया है। मात्र, २४ घंटे पहले जनतंत्र की प्रक्रिया का सम्मान करने का आश्‍वासन देनेवाली सेना ने की हुई इस कार्रवाई के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ी सनसनी मची है। सोमवार भोर के समय सेना ने म्यांमार की प्रमुख जनतांत्रिक नेता और ‘नैशनल लीग फॉर डेमोक्रसी’ की अध्यक्षा ‘आँग सैन स्यू की’ को गिरफ्तार करके देश में आपातकाल का ऐलान किया।

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/emergency-declared-after-the-military-uprising-in-myanmar/

Related Post

Leave a Reply