नवरात्रि पूजन पद्धतीबाबत सूचना

हरि ॐ,

परमपूज्य सद्‌गुरु के द्वारा विशेष रूपसे बतायी गयी और उसके अनुसार मेरे द्वारा ब्लॉग पर पोस्ट की गयी नवरात्रि पूजन करने की शुद्ध, सात्त्विक, सरल परन्तु तब भी श्रेष्ठतम पवित्र पद्धति सभी श्रद्धावानों के लिए इस वर्ष की आश्विन नवरात्रि से उपलब्ध करायी गयी है। उसके अन्तर्गत विधिविधान कैसा होगा, इसकी सारी जानकारी मेरे ब्लॉग पर पहले ही दी गयी है। इस विधिविधान के अन्तिम (क्रमांक ३६) मुद्दे के अनुसार श्रद्धावानों को पुरानी पद्धति के अनुसार पूजन करने में कोई हर्ज नहीं है; लेकिन शुद्ध, सात्त्विक, सरल परन्तु तब भी श्रेष्ठतम रहने वाली पवित्र पद्धति से पूजन करने से नवरात्रि पूजन की त्रुटियां, गलतियां या व्यक्तिगत दोष इनका परिणाम नहीं होता।

कुछ श्रद्धावान इससे पहले अलग अलग पद्धति से पूजन करते आये हैं; परन्तु तब भी सद्गुरु के शब्द के अनुसार पूजन करें या अन्य पद्धति से पूजन करें, इसका निर्णय श्रद्धावान व्यक्तिगत रूप से ले सकते हैं।


हरि ॐ,

परमपूज्य सद्‌गुरुंनी विशेष पद्धतीने सांगितल्याप्रमाणे व त्यानुसार मी ब्लॉगवर दिल्याप्रमाणे नवरात्रि पूजन करण्याची शुद्ध, सात्त्विक, सोपी व तरीही श्रेष्ठतम्‌पवित्र पद्धती सर्व श्रद्धावानांसाठी येत्या अश्विन नवरात्रिपासून उपलब्ध करून देण्यात आली आहे. त्यातील विधीविधान कशा पद्धतीने असेल याची संपूर्ण माहिती माझ्या ब्लॉगवर आधीच देण्यात आली आहे. या विधिविधानात शेवटच्या (क्रमांक ३६) मुद्यामध्ये सांगितल्याप्रमाणे श्रद्धावानांनी जून्या पध्दतीनुसार पूजन करण्यास काहीच हरकत नाही, परंतू शुद्ध, सात्त्विक, सोप्या व तरीही श्रेष्ठतम्‌अशा पवित्र पद्धतीने पूजन केल्यास नवरात्रि पूजनातील त्रुटी व चूका वा व्यक्तिगत दोष यांचा परिणाम होत नाही.

काही श्रद्धावान यापूर्वी वेगवेगळ्या पद्धतीने पूजन करीत आले आहेत. परंतू तरीही सद्‌गुरुंच्या शब्दाप्रमाणे पूजन करावे, का इतर पद्धतीने पूजन करावे हा निर्णय श्रद्धावान वैयक्तिकरित्या घेऊ शकतात.

 

॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

Related Post

Leave a Reply