‘नाथसंविध्’ फोरमबाबत सूचना

हरि ॐ,

गुरुवारी १४ डिसेंबर २०१७ रोजी सद्गुरू श्री अनिरुद्धांनी पितृवचनामध्ये सर्व श्रद्धावानांना मोठ्या आईची एक सुंदर भेट दिली आहे. ही भेट म्हणजेच श्रद्धावानांना संपूर्ण आयुष्य बदलू शकणारा मार्ग, मंत्र व उपाय – ‘नाथसंविध्’. सुचितदादांनी सांगितल्याप्रमाणे जो जो म्हणून या पितृवचनानुसार पुढे जात राहील त्याचे सर्व अंगांनी, सर्व बाजूंनी व सर्व काळात कल्याणच होईल.

या विषयासंबंधी अनेक श्रद्धावान व्हॉट्‍सऍप व फेसबुकवर सुंदर विचार मांडत आहेत. काही जणांनी सुरेख फोटोज्‌व आर्टवर्क ही तयार केलेली आहेत. या विषयासंदर्भात आपली संकल्पना स्पष्ट होण्यास मदत व्हावी यासाठी आपण एक व्यासपीठ सर्व श्रद्धावानांना उपलब्ध करून देत आहोत. हे व्यासपीठ म्हणजेच ’नाथसंविध्‌’ हा फोरम. या फोरम मध्ये  दोन्हीही महाधर्मवर्मन म्हणजेच डॉ. योगिंद्रसिंह व डॉ. विशाखावीरा सर्व श्रद्धावानांच्याबरोबर सक्रीय असतील.

URL of Forum – http://www.naathsamvidh.com/

या फोरम वर सर्व श्रद्धावान आपापले विचार, आपला दृष्टीकोन इतरांसमोर मांडू शकतील, तसेच इतर श्रद्धावानांनी टाकलेल्या पोस्टवर आपल्या प्रतिक्रिया देऊ शकतील व चर्चा करू शकतील. श्रद्धावान मराठी, हिंदी किंवा इंग्रजी या भाषांमध्ये टाईप करू शकतील. हे करण्यासाठी तुम्हाला आधी या फोरम मध्ये लॉगिन करणे आवश्यक असेल. यासाठी तुमच्या जीमेल आयडी व पासवर्ड चा वापर करून अथवा स्वतःचा या फोरमसाठी नविन लॉगिन आयडी व पासवर्ड तयार करून लॉगिन करू शकतील. सर्व श्रद्धावान या फोरमचा निश्चितच चांगला उपयोग करून घेतील याची मला खात्री आहे.


हरि ॐ,

गुरुवार १४ दिसंबर २०१७ को सद्गुरु श्रीअनिरुद्धजी ने पितृवचन में सभी श्रद्धावानों को ‘मोठी आई’ (माँ चण्डिका) का एक सुंदर उपहार दिया है। यह उपहार यानी श्रद्धावानों के लिए पूरा जीवन बदल सकनेवाला मार्ग, मन्त्र और उपाय – ‘नाथसंविध्’। जैसा कि सुचितदादा ने बताया था, जो कोई भी इस पितृवचन के अनुसार मार्गक्रमणा करता रहेगा, उसका सभी पहलुओं से, सभी ओर से और सभी कालों में कल्याण ही होगा।

इस विषय के संदर्भ में कई श्रद्धावान व्हॉट्‍सऍप और फेसबुक पर सुंदर विचार प्रस्तुत कर रहे हैं। कुछ लोगों ने सुन्दर फोटोज्‌एवं आर्टवर्क भी तैयार किये हैं। इस विषय के संदर्भ में अपनी संकल्पना स्पष्ट होने में सहायता हों, इसलिए सब श्रद्धावानों के लिए हम एक व्यासपीठ उपलब्ध करा रहे हैं। यह व्यासपीठ यानी ’नाथसंविध्‌’ यह फोरम। इस फोरम पर दोनों भी महाधर्मवर्मन यानी डॉ. योगिंद्रसिंह तथा डॉ. विशाखावीरा सभी श्रद्धावानों के साथ सक्रीय होंगे।

URL of Forum – http://www.naathsamvidh.com/

इस फोरम पर सभी श्रद्धावान अपने अपने विचार, अपना दृष्टिकोण अन्य लोगो के सामने रख सकते है, इसी तरह अन्य श्रद्धावानों ने अपलोड़ की हुईं पोस्टस् पर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं और चर्चा कर सकते हैं। इस फोरम पर श्रद्धावान मराठी, हिंदी या अंग्रेजी इन भाषाओंमें टाईप कर सकते है। यह करने के लिए आपको इस फोरम में लॉगिन करना आवश्यक होगा। इसके लिए या तो आपके जीमेल आयडी और पासवर्ड का उपयोग करके या फिर इस फोरम के लिए एक नया लॉगिन-आयडी और पासवर्ड बनाकर लॉगिन कर सकते हैं। मुझे यक़ीन है की सभी श्रद्धावान इस फोरम का निश्चित रूप में उचित उपयोग करेंगे।

॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

Related Post

Leave a Reply