अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य – ३१ दिसंबर २०१९

Aniruddha Bhaktibhav Chaitanya

 

हरि ॐ,

२६ मई २०१३ को हम सबने एक अद्‍भुत एवं सुखद प्रेमयात्रा को अनुभव किया, वह प्रेमयात्रा थी ’न्हाऊ तुझिया प्रेमे’। सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्ध के प्रेम में, इस भक्तिभाव चैतन्य में नहाना क्या होता है, इसका प्रत्यक्ष एवं परिपूर्ण अनुभव इस दिन श्रद्धावानों ने किया। आज इस प्रेमयात्रा के ६ वर्ष पूरे हो रहे हैं और हम सब श्रद्धावान ३१ दिसंबर २०१९ को हो रहे ’अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य’ इस महासत्संग की उत्सुकता के साथ प्रतीक्षा कर रहे हैं।

इस कार्यक्रम में कौन से अभंग प्रस्तुत किये जायेंगे, इस बारे में प्रत्येक श्रद्धावान के मन में कौतूहल अवश्य होगा। इस कार्यक्रम के लिए अभंगों का चयन करना यह आसान कार्य नहीं है, क्योंकि इन अभंगों को श्रद्धावानों के द्वारा अपने अपने जीवन में कभी न कभी अनुभव किया हुआ होता है और उन्हें सुनते समय हम जाने अनजाने में ही उन पलों से, उन स्मृतियों से जुड़ जाते हैं और इसी कारण

अपने पसंदीदा अभंग का समावेश इस कार्यक्रम में हो ऐसा हर एक श्रद्धावान को लगता है। इसी लिए इन अभंगों की चयन-प्रक्रिया में हम सभी को सम्मिलित करा रहे हैं।

इसके लिए श्रद्धावान ’अनिरुद्ध प्रेमसागरा – श्रद्धावान नेटवर्क’ इस हमारी सोशल मिडिया साईट पर लॉग इन करें और उस पेज पर दिये गये निर्देशों के अनुसार इस पोल में सम्मिलित हों।

Link – https://aniruddhapremsagara.com/

सच में, इस अनिरुद्ध प्रेमसागर की लहरों पर सवार होकर अनिरुद्ध के भक्तिभाव चैतन्य में नहाने के लिए यह कार्यक्रम सभी श्रद्धावानों के लिए स्वर्णिम पर्व ही होगा।

—————————————————————–

हरि ॐ,

२६ मे २०१३ रोजी आपण सर्वानी एक अद्‍भुत आणि सुखद प्रेमयात्रा अनुभवली, ती म्हणजे ’न्हाऊ तुझिया प्रेमे’. सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्धांच्या प्रेमात, या भक्तिभाव चैतन्यात नहाणं म्हणजे काय, याचा प्रत्यक्ष आणि पुरेपूर अनुभव त्या दिवशी श्रद्धावानांनी घेतला. आज या प्रेमयात्रेला ६ वर्षे पूर्ण होत आहेत आणि आपण सर्व श्रद्धावान ३१ डिसेंबर २०१९ रोजी होणार्‍या ’अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य’ या महासत्संगाची आतुरतेने वाट पहात आहोत.

या कार्यक्रमात कुठले अभंग सादर होतील याबद्दल प्रत्येक श्रद्धावानाच्या मनात कुतुहल असेलच. ह्या कार्यक्रमासाठी अभंग निवडणे म्हणजे अक्षरशः तारेवरची कसरत असते. कारण हे अभंग श्रद्धावानांनी आपापल्या जीवनात कधी ना कधी अनुभवले असतात, आणि ते ऐकताना आपण नकळत त्या क्षणांशी, त्या आठवणींशी जोडले जातो. म्हणून, मला भावलेला अभंग या कार्यक्रमात असावा असे प्रत्येक श्रद्धावानाला वाटते. यासाठीच या अभंगांच्या निवडप्रक्रियेत आपण सर्वांना सहभागी करून घेत आहोत.

यासाठी श्रद्धावानांनी ’अनिरुद्ध प्रेमसागरा – श्रद्धावान नेटवर्क’ या आपल्या सोशल मिडिया साईटवर लॉगिन करावे आणि त्या पेजवर दिलेल्या निर्देशांप्रमाणे या पोल मध्ये सहभागी व्हावे.

Link – https://aniruddhapremsagara.com/

खरंच, ह्या अनिरुद्ध प्रेमसागराच्या लाटांवर आरूढ होऊन अनिरुद्धांच्या भक्तिभाव चैतन्यात सचैल न्हाऊन निघण्यासाठी हा कार्यक्रम म्हणजे सर्व श्रद्धावानांकरिता पर्वणीच असेल.

॥ हरि ॐ ॥ श्रीराम ॥ अंबज्ञ ॥
॥ नाथसंविध् ॥

Related Post

Leave a Reply