अमरिका और चीन में नये संघर्ष की संभावना

अमरिका का तैवान में ‘अनौपचारिक दूतावास’ शुरू – ‘अमरिकन इन्स्टिट्यूट ऑफ तैवान’ यानी दूतावास होने का दावा

अमरिका और चीन में नये संघर्ष की संभावनातैपेई: तैवान की राष्ट्राध्यक्षा ‘त्साई ईंग-वेन’ और अमरिका के वरीष्ठ अधिकारीयों की उपस्थिती में ‘अमरिकन इन्स्टिट्यूट ऑफ तैवान’ का राजधानी तैपेई में उद्घाटन हुआ| लेकिन यह अमरिका का सांस्कृतिक केंद्र होने का दावा किया जा रहा है, फिर भी वास्तविकता में यह अमरिका का दूतावास प्रतित हो रहा है| इस पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनने अमरिका से अपनी गलती सुधारने की मॉंग की है|

चीन का दावा है कि, तैवान हमारा अविभाज्य हिस्सा है| इस कारण अन्य किसी देश ने तैवान के साथ राजनीतिक, व्यापारी और सैनिकी सहयोग स्थापित ना करे, ऐसी धमकी चीन द्वारा दी जाती है| तैवान को देश का दर्जा ना मिले इसलिए चीन अपने वित्तिय, राजनीतिक और सैनिकी सामर्थ्य की बाजी लगाने की घटनाए कई बार उजागर हुई थी|

आगे पढें: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-informal-embassy-in-taiwan/

‘साउथ चाइना सी’ में अमरिका को अड्डा निर्माण करने के लिए तैवान की अनुमति

अमरिका और चीन में नये संघर्ष की संभावनातैपेई: साउथ चाइना सी क्षेत्र में अमरिका और चीन के बीच तनाव बढ़ रहा है, ऐसे में अमरिकी लष्कर को यहाँ पर अड्डा निर्माण करने की अनुमति तैवान ने दी है। इसके लिए साउथ चाइना सी के तायपिंग आयलैंड देने का प्रस्ताव तैवान के अभ्यासकों ने बनाया है। यह हुआ तो साउथ चाइना से में चीन के वर्चस्व को अमरिका से सीधे चुनौती मिल सकती है।

स्वतंत्र तैवान का पुरस्कार करने वाले तैवान के अभ्यासकों के एक समूह ने यह प्रस्ताव बनाया है। ‘साऊथ चाइना सी’ में अमरिका के सैन्य तैनाती के लिए ‘तायपिंग आयलैंड’ उपलब्ध कराके देने देने की तैयारी करने जानकारी तैवान के मीडिया में प्रसिद्ध हुई है। अमरिकी लष्कर को तायपिंग द्वीप दीर्घकाल के लिए किराए पर देने की विस्तृत योजना बनाई गई है।

आगे पढें: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/taiwan-offers-to-help-us-build-a-base-in-south-china-sea/

अमरिकन ‘बॉम्बर’ की ‘साउथ चाइना सी’ के द्वीपों पर उड़ान

अमरिका और चीन में नये संघर्ष की संभावनावॉशिंग्टन: अमरिका के परमाणु वाहक बॉम्बर विमानों ने ‘साउथ चाइना सी’ के स्प्रार्टले द्वीप के पास से उड़ानें भरी हैं। सिंगापूर में पूरी हुई ‘शांग्री-ला’ की बैठक में ‘साउथ चाइना सी’ को लेकर अमरिका और चीन के बीच तनाव निर्माण हुआ था। इस पृष्ठभूमि पर, अमरिकी बॉम्बर विमानों की स्प्रार्टले द्वीप के पास गश्त लगाना, तनाव बढाने वाली घटना साबित हो सकती है।

अमरिका के प्रमुख न्यूज़ चैनल ने रक्षा विभाग के अधिकारी के हवाले से दी हुई जानकारी के अनुसार, अमरिकी वायुसेना के ‘बी-५२’ इन परमाणु वाहक बॉम्बर विमानों ने सोमवार को स्प्रार्टले द्वीप के पास गश्त लगाई है। ‘साउथ चाइना सी’ के स्प्रार्टले द्वीप समूह पर चीन ने अपना अधिकार जताया है।

आगे पढें:  http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-bomber-hovers-in-south-china-sea/

Newscast-Pratyaksha Twitter Handle

 

Related Post

Leave a Reply