‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – नवम्बर २०१८

 

Shree Aniruddha Upasana Foundation

‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – हिन्दी संस्करण

 

नवम्बर २०१८

संपादक की कलम से

 

हरि ॐ श्रद्धावान सिंह / वीरा,

दिवाली…यानी साल का वह महीना जब सभी उत्सव की तैयारियों में मगन रहते हैं। तकरीबन दो हफ्ते इस उत्सव का रंग चढा रहता है। नए कपडे, स्वादिष्ट व्यंजन…दिवाली मानो एक सांस्कृतिक सम्मेलन ही है! अत्यंत आनंदादायी वातावरण का अनुभव। एक संस्था के रूप में हमेशा सेवा को प्राथमिकता देनेवाले श्री अनिरुद्ध आदेश पथक ने सन २०१५ से पालघर जिले के मोखाडा तालुका में अनिरुद्धाज ऐकेडमी ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट के सहयोग से भक्तिपूर्ण सेवा योजनाएं आरम्भ की हैं। सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने मेहनतकश वर्ग के विकास के लिए कई बार अपनी तडप व्यक्त की है। इसी हेतु को पूरा करने के लिए सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी के मार्गदर्शन अनुसार यहां पर सेवाएं की जा रही हैं।

– समीरसिंह दत्तोपाध्ये

 

 

विषय-सूची

  • संपादक की कलम से
  • मोखाडा में भक्तिपूर्ण सेवा
  • अनिरुद्धाज ऐकेडमी ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट

यह न्यूजलेटर अंग्रेजी या मराठी में पढनेके लिए निम्नलिखित लिंकपर क्लिक करे।

English | मराठी

इस न्यूजलेटर के बारे में आपकी प्रतिक्रियाएँ एवं सूचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल आयडी पर भेज सकते हैं :

[email protected]


अल्फा टू ओमेगा न्युजलेटर – मासिक संस्करण

वर्ष ३ | अंक १२ | नवम्बर २०१८ | १

 


अल्फा टू ओमेगा न्युजलेटर – मासिक संस्करण


मोखाडा में भक्तिपूर्ण सेवा –

संस्था के स्वयंसेवकों ने स्थानिक लोगों की समस्याओं का सर्वेक्षण किया तो जाना कि यहां की समस्याएं हमारे अनुमान से कई गुना अधिक गंभीर हैं। इसलिए श्री अनिरुद्ध आदेश पथक अपने स्वयंसेवकों के जरिए मोखाडा में विभिन्न योजनाओं द्वारा ग्रामवासियों को कपडे, बर्तन तथा दिवाली के व्यंजनों का वितरण करने लगा।

मगर इन सब बातों से सर्वाधिक महत्वपूर्ण प्रकल्प है चरखा अन्नपूर्णा यौजना। सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी द्वारा घोषित १३ सूत्री योजनाओं में से एक सूत्र है चरखा योजना।

इस योजना के अंतर्गत ग्रामवासियों को चरखा चलाने के एवज में चावल और दाल का अनाज दिया जाता है। इस काते गए धागे से मेहनतकश लोगों के लिए कपडे एवं वरदियां बनाई जाती हैं। इस सेवा द्वारा ४५ से ५० हजार मीटर कपडे का उत्पादन होता है।

प्रारम्भ में, अर्थात सन २०१५ में गांधीपुल नामक गांव में शुरु किया गया यह प्रकल्प पिछले कुछ सालों में अधिकाधिक गांवों में फैल चुका है।

इस वर्ष मोखाडा स्थित २२ गांवों के लगभग २५०० ग्रामवासियों ने इस सेवा का लाभ उठाया।





अल्फा टू ओमेगा न्युजलेटर – मासिक संस्करण

वर्ष ३ | अंक १२ | नवम्बर २०१८ | २

 


अल्फा टू ओमेगा न्युजलेटर – मासिक संस्करण


माह के दौरान

अनिरुद्धाज ऐकेडमी ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट (AADM) का प्राथमिक प्रशिक्षण –

श्रेयस कॉलोनी, गोरेगांव (पूर्व) उपासना केंद्र द्वारा आयोजित विपत्ति निवारण अध्ययनक्रम में ३५ श्रद्धावानों ने भाग लिया।

● गजाननराव पांडुरंग पाटील कॉलेज ऑफ आर्ट्‌स ऐण्ड सायन्स, कोनगांव में कोनगांव उपासना केंद्र द्वारा आयोजित प्रशिक्षण में २२ श्रद्धावानों ने भाग लिया।

● तो एएडीएम, मुख्य कार्यालय, माहिम, मुम्बई में आयोजित विपत्ती निवारण अध्ययनक्रम में १७ श्रद्धावानों ने भाग लिया।

अनिरुद्धाज ऐकेडमी ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट (AADM) द्वारा आयोजित विपत्ति व्यवस्थापन सेवा –

● नवरात्री उत्सव के दौरान मुंबई स्थित श्री महालक्ष्मी मंदिर में भीड नियंत्रण और यातायात व्यवस्थापन सेवा में अनिरुद्धाज ऐकेडमी ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट (AADM) के १९५८ स्वयंसेवकों (DMVs) ने भाग लिया था।

● इसी तरह नाशिक मालेगांव स्टैंड, सिडको, नाशिक रोड, गांधीनगर और कालिका मंदिर के उपासना केंद्रों के ५६ विपत्ति निवारण स्वयंसेवकों (DMVs) ने नवारात्रि उत्सव २०१८ के दौरान श्री कालिका माता मंदिर, नाशिक में भीड नियंत्रण सेवा में भाग लिया।

● ११२ विपत्ति निवारण स्वयंसेवकों (DMVs) ने सप्तशृंगी देवी मंदिर, वणी, नाशिक में नवरात्रि उत्सव के दौरान भीड नियंत्रण सेवा में भाग लिया।

Shree Aniruddha Upasana Foundation

नवारात्रि उत्सव २०१८ के दौरान चतु:शृंगी मंदिर, पुणे स्थित चतु:शृंगी पुलिस थाने में भीड और यातायात नियंत्रण सेवा में २०९ विपत्ति निवारण स्वयंसेवकों (DMVs) ने सहायता की।

● जलगाव स्थित श्री पटणा देवी मंदिर, चालीसगाव में नवरात्री उत्सव २०१८ के दौरान भीड नियंत्रण सेवा में २४६ विपत्ति निवारण स्वयंसेवकों (DMVs) ने भाग लिया।


अल्फा टू ओमेगा न्युजलेटर – मासिक संस्करण

वर्ष ३ | अंक १२ | नवम्बर २०१८ | ३

 

 


अल्फा टू ओमेगा न्युजलेटर – मासिक संस्करण


Shree Aniruddha Upasana Foundation

● श्री क्षेत्र जगदंबा (मोहता) देवी मंदिर, पाथर्डी, अहमदनगर में भीड और यातायात नियंत्रण सेवा में १०९ विपत्ति निवारण स्वयंसेवकों ने भाग लिया।

● नवरात्री उत्सव के दौरान फिरंगाई माता मंदिर, कुरकुंभ में भीड और यातायात नियंत्रण सेवा में ४६ विपत्ति निवारण स्वयंसेवकों (DMVs) ने भाग लिया।

Shree Aniruddha Upasana Foundation

● १७ अक्तूबर २०१८ के दिन श्री कल्लम्मदेवी यात्रा, कलामवाडी, वालवा, सांगली में भीड नियंत्रण सेवा में ६० DMVs ने भाग लिया था।

Shree Aniruddha Upasana Foundationवेब प्रेसेन्स्

यु-ट्युब चॅनेलस्

 

 

 

Related Post

Leave a Reply