स्वयंभगवान त्रिविक्रम के १८ वचन (The 18 Promises of the Trivikram) – मराठी, हिन्दी और अँग्रेज़ी

हरि ॐ,

दिनांक २२ दिसम्बर २०१८ यानी दत्तजयंती से श्रीवर्धमान व्रताधिराज का आरंभ हो रहा है। सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धजी के बतायेनुसार कई श्रद्धावान ‘स्वयंभगवान त्रिविक्रम के १८ वचन’ बतौर ‘व्रतपुष्प’ लेनेवाले हैं। श्रद्धावानों की सुविधा के लिए स्वयंभगवान त्रिविक्रम के १८ वचन मराठी, हिन्दी और अँग्रेज़ी में उपलब्ध कराये जा रहे हैं।

त्रिविक्रमाची १८ वचने (मराठी)

——————————–

 त्रिविक्रम के १८ वचन (हिंदी) 

——————————————

 

The 18 Promises of the Trivikram 

——————————————

। हरि ॐ । श्रीराम । अंबज्ञ ।
। नाथसंविध्‌ ।

Related Post

Leave a Reply